Symptoms of kidney failure

किडनी खराब होने के इन प्रारंभिक लक्षणों को नज़रअंदाज़ मत कीजिए

Symptoms of kidney failure : किडनी शरीर का मुख्य अंग है जो शरीर से हानिकारक पदार्थ निकालने का काम करती है। किडनी रक्त को साफ करते हुए सारे हानिकारक पदार्थों को मूत्र के रूप में शरीर से बाहर कर देती है।

हर मनुष्य के शरीर में 2 किडनी होती हैं। अगर किसी भी कारण से एक किडनी काम करना बंद कर दे, तो दूसरी किडनी मनुष्य को जीवित रख सकती है।

परंतु उस पर जीना बेहद मुश्किल हो जाता है। हर दिन बदल रहे लाइफस्टाइल की वजह से इंसान की जीवनशैली खराब होती जा रही है।

पौष्टिक आहार ना लेना, दवाइयों का ज़्यादा इस्तेमाल और सही मात्रा में पानी ना पीने जैसी कई आदतें हैं जो इंसान की किडनी को खराब कर देती हैं।

किडनी खराब होने के पारंभिक लक्षण Symptoms of kidney failure

बेहतर है कि किडनी खराब होने से पहले ही कुछ शुरुआती लक्षणों को पहचान कर उसका इलाज शुरू कर दिया जाए।

  • वैसे तो पेट में दर्द होना एक आम बात है परंतु अगर दर्द पेट के दाएं या बाएं तरफ होने लगे और असहनीय हो जाए तो इसे नजरअंदाज बिल्कुल मत करें, क्योंकि यह किडनी खराब होने का एक संकेत हो सकता है।
  • हाथों पैरों पर सूजन किसी भी वजह से हो सकती है परंतु इसका एक कारण किडनी खराब होना भी हो सकता है। दरअसल किडनी खराब होने पर शरीर में कई हानिकारक पदार्थ जमा हो जाते हैं जिससे हाथों पैरों पर सूजन होने लग जाती है और मूत्र का रंग गाढ़ा हो जाता है। आंखों के नीचे सूजन बढ़ जाना भी किडनी की बीमारी का ही एक संकेत है ऐसी स्थिति में डॉक्टर की सलाह लेना बेहद आवश्यक है।
  • अगर मूत्र में खून के निशान दिखें तो इसे नज़रअंदाज़ बिल्कुल ना करें। ऐसे में तुरंत डॉक्टर को संपर्क करना ही सही है।
  • यूरिन या पेशाब ना रोक पाना भी किडनी संबंधित बीमारियों का संकेत है।
  • अचानक से कंपकंपी, ठंड लगना और शरीर का तापमान बढ़ जाना भी इस ओर इशारा देता है।
  • दिन भर काम करने के बाद थकान होना लाजमी है परंतु बिना किसी कार्य किए थकान और कमज़ोरी महसूस करना किसी बीमारी का संकेत हो सकता है।
  • सांस लेने में तकलीफ होना भी एक नकारात्मक संकेत है। किडनी खराब होने पर शरीर में पानी भर जाता है। यह पानी फेफड़ों में इकट्ठा हो जाता है जिससे सांस लेने में तकलीफ़ महसूस होने लगती है।
  • पेट खराब होने के साथ बार-बार उल्टी का आना भी एक संकेत हो सकता है। ऐसी स्थिति में पहले खुद पहचानने की कोशिश करें कि उल्टी किसी और पाचन बीमारी की वजह से तो नहीं हो रही। अगर नहीं तो डॉक्टर को दिखाना ना भूलें।
  • कुछ बुरी आदतों और पदार्थों के लगातार सेवन करने से किडनी पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है।
  • अधिक मीठा खाने से शरीर में सोडियम और ग्लूकोज का स्तर बढ़ जाता है जिससे किडनी पर उन्हें फिल्टर करने का दबाव भी बढ़ जाता है।
  • अधिक मास- मच्छी, गोष्ट और मसालेदार खाना भी किडनी के लिए सही नहीं माना जाता।
  • बिना वजह अधिक दवाइयों का सेवन करने से भी गुर्दों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।
  • कम पानी पीने से किडनी और जल्दी खराब होने लग जाती हैं। किडनी का मुख्य कार्य शरीर से हानिकारक पदार्थ को निकालना होता है जिसमें पानी की मुख्य भूमिका है।पानी ना पीने से किडनी अपना कार्य नहीं कर पाती

अपने शरीर को तंदुरुस्त रखने के लिए इन प्रारंभिक लक्षणों को पहचानना बेहद आवश्यक है। एक तंदुरुस्त शरीर ही हमें एक खुश-हाल जीवन दे सकता है।

ये भी पढ़ें

एनीमिया क्या है? एनीमिया के लक्षण और घरेलू उपचार
एक्जिमा के लक्षण, कारण, और बचाव के तरीके जानें

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *