driver-changing-radio-station-in-car-1301522

गाड़ी चलाते वक्त संगीत सुनना करता है तनाव को दूर

देश की बढ़ती आबादी अपने साथ कई सारी समस्याओं को लेकर आती है। दिन प्रतिदिन शहरों की आबादी बढ़ती ही जा रही है।

साथ ही विज्ञान की बढ़ती खोजों के साथ इंसान बहुत ही आलसी होता जा रहा है आजकल 1 किलोमीटर दूर तक जाने के लिए भी हर कोई गाड़ी स्कूटर पर ही सवार रहता है, जिस वजह से शहरों में ट्रैफिक सबसे बड़ी समस्या बन गई है।

दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु जैसे बड़े शहरों में लोगों को घंटों ट्रैफिक में इंतज़ार करना पड़ता है। यहां तक की मेट्रो की सुविधा होने के बावजूद दिल्ली के ट्रैफिक में कोई बदलाव नहीं देखा गया है।

ज़ाहिर सी बात है कि किसी भी व्यक्ति को जब घंटों ट्रैफिक में बैठना पड़ता है तो वह बहुत क्रोधित हो जाता है। कुछ ही समय में उसका मन अशांत होने लग जाता है।

ऐसी स्थिति में आपकी सेहत पर भी बुरा असर पड़ सकता है। इस तनाव भरे माहौल में अक्सर हमारे हृदय की गति और भी तेज़ हो जाती है और रक्तचाप भी आसमान को छूने लग जाता है।

अनुसंधान के अनुसार इस तरह एक जगह से दूसरी जगह जाते समय आपकी अत्यधिक ऊर्जा इस्तेमाल होती है। अनुसंधान से यह भी सामने आया है कि ड्राइविंग स्ट्रेस भी कई हृदय रोगों और हार्ट अटैक का कारण बन सकता है।

विशेषज्ञों ने इस विषय पर कई अध्ययन किए हैं और उनका कहना है कि आपकी गाड़ी में लगा हुआ म्यूज़िक सिस्टम इस तनाव को दूर करने का सबसे बेहतरीन और आसान तरीका बन सकता है।

अक्टूबर 2019 में पूरक और वैकल्पिक चिकित्सा पर आधारित एक अध्ययन के बारे में छापा गया था। शोधकर्ताओं का मानना था की संगीत हृदय पर पड़ने वाले तनाव को कम करने में सहायता कर सकता है।

इस अध्ययन के चलते 18 से 23 वर्ष की उम्र वाली 5 स्वस्थ महिलाओं को चुना गया था। इस अध्ययन की रचयिता विटोर एंग्रेशिया वेलेंटाइ का कहना है कि इस अध्ययन के लिए सिर्फ महिलाओं को इसलिए चुना गया था क्योंकि महिलाओं की श्रवण उत्तेजना पुरुषों के मुकाबले तेज़ होती है।

उनका कहना है कि उनकी टीम द्वारा केवल उन्हीं लोगों को चुना गया था जो कि गैर अभ्यस्त ड्राइवर हों। उनका मानना था कि अभ्यस्त ड्राइवरों को इस तरह के तनाव का सामना करने की आदत होती है और वह इस पर काबू पाना सीख जाते हैं।

उन्होंने 5 महिलाओं को समान रास्तों पर दो अलग दिनों पर गाड़ी चलाने के लिए भेजा। फर्क सिर्फ इतना था कि दूसरे दिन उन्होंने इन महिलाओं की गाड़ी के म्यूज़िक सिस्टम पर वाद्य संगीत लगा कर दिया था।

इस अध्ययन के परिणाम देखने के लिए शोधकर्ताओं ने महिलाओं की छाती पर एक हार्ट रेट मॉनिटर लगा दिया था। जिससे वह इनके हार्ट रेट में बदलाव को देख पाएं।

हार्ट रेट वरिएबिलिटी यानी दिल की धड़कन में परिवर्तनशीलता तनाव के माहौल में कम हो जाती है और आराम करने वाली स्थिति में बढ़ जाती है।

हार्ट रेट मॉनिटर से पाए जाने वाले आंकड़ों को देखने के बाद शोधकर्ताओं को यह नज़र आया कि संगीत सुनते हुए गाड़ी चलाने वाली महिलाओं में हार्ट रेट वरिएबिलिटी अधिक थी, जिसका अर्थ है कि यह महिलाएं अधिक शिथिलीकृत महसूस कर रही थीं।

किस तरह तनाव हमारे हृदय पर प्रभाव डालता है?

वेलेंटाइ का कहना है कि तनाव भरी स्थिति में हमारी स्वायत्त तंत्रिका प्रणाली हमारे रक्त में केटेकोलामाइन को छोड़ता है जिससे हृदय कि मांग बढ़ जाती है और हृदय कि गति व रक्तचाप का स्तर भी बढ़ जाता है।

ऐसी स्थिति में मोटापे और मधुमेह से पीड़ित लोगों में तनाव की वजह से आकस्मिक मृत्यु होने का जोखिम बढ़ जाता है।

ज़ुकर स्कूल ऑफ मेडिसिन, नॉर्थवैल में हृदयरोगविज्ञान की सहेयक प्रोफ़ेसर डॉ सत्जीत भुसरी का कहना है कि वह अब तनाव से संबंधित हृदय रोगों को समझने का प्रयास कर रहे हैं जिसे अन्यथा ब्रोकन हार्ट सिंड्रोम भी कहा जाता है।

क्या संगीत दूर कर सकता है हमारा तनाव?

गाड़ी चलाते समय हो रहे तनाव को अचानक से होने वाले हृदय जोखिमों का कारण माना गया है। जिसे देख कर इस बात के वैज्ञानिक सबूत मिलते हैं कि गाड़ी चलाते समय संगीत सुनने से दिमाग में बढ़ रहा तनाव कुछ कम हो जाता है और अधिकतर लोगों को इसका पालन भी करना चाहिए।

2017 में हुए एक अध्ययन से यह सामने आया है कि “कम उत्तेजित करने वाला शास्त्रीय संगीत” व्यक्ति को शिथिलीकृत स्थिति में पहुंचाने में सहायता करता है।

वेलेंटाइ का कहना है कि उन्होंने वाद्य संगीत को इसलिए चुना है क्योंकि अन्य प्रकार के संगीत के बोल हर व्यक्ति पर अलग तरह का प्रभाव डालते हैं।

उन्होंने यह भी बताया कि कई पुराने अध्ययनों से यह भी साबित हुआ था कि शास्त्रीय संगीत उच्च रक्तचाप चिकित्सा के लिए गई दवाइयों पर भी अच्छा प्रभाव डालता है और उनका असर बढ़ा देता है।

इसलिए कहा जाता है कि जब भी आप किसी तनाव से गुज़र रहे हों तो धीमी आवाज़ में किसी भी शास्त्रीय या वाद्य संगीत को सुनकर आप कुछ पल के लिए अपने दिमाग को शांत कर सकते हैं।

निम्नलिखित अन्य तरीकों के साथ भी आप अपने तनाव को दूर कर सकते हैं :

  • अगर गाड़ी चलाते हुए आपको किसी के भी कॉल या मैसेज से परेशानी हो रही हो तो अपनी मंज़िल पर पहुंचने तक इन सभी कॉल्स को ब्लॉक कर दें।
  • ट्रैफिक के समय धैर्य बनाए रखें और उस दौरान कुछ लाभदायक करने का प्रयास करें।
  • चिंता को दूर करने के लिए गहरी सांस लेने की सही विधि सीखें।
  • घर से निकलने से पहले रास्ते के ट्रैफिक के बारे में  जानकारी रखें और अपना सफर उसी हिसाब से तय करें।
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *