What is calories

What is Calories-क्या आप सही कैलोरी पहचानते हैं ?

What is Calories फिटनेस की बात आते ही कैलोरी का ज़िक्र होना लाज़मी है। लेकिन कई लोगों के मन में कैलोरी को लेकर अक्सर भ्रम रहता है।

भोजन में कितनी कैलोरी है, हमें उसकी कितनी ज़रूरत है, यह जानना भी रुचिपूर्ण होगा कि कैसी कैलोरी काम की है।

What is Caloriesकैलोरी क्या है?

मानव शरीर के लिए आवश्यक ऊर्जा Energy को कैलोरी की इकाई में मापा जाता है।

इसे हम अपने भोजन से मेटाबॉलिक प्रक्रिया से प्राप्त करते हैं और दैनिक गतिविधियों या शारीरिक कार्य करने पर इस ऊर्जा का इस्तेमाल करते हैं।

अलग-अलग खाद्य पदार्थ या उनसे बने व्यंजनों में कैलोरी की मात्रा अलग-अलग होती है।

कैलोरी और खाली कैलोरी में अंतर

ऐसे खाद्य पदार्थ जिनमें कैलोरी के अलावा और कोई भी पोषक तत्व नहीं है, उनसे प्राप्त ऊर्जा को खाली कैलोरी कहते हैं।

ऐसे खाद्यों में प्रोटीन, खनिज, विटामिन, कार्बोहाइड्रेट या रेशों की मात्रा नगण्य होती है।

खाली कैलोरी अधिक मात्रा में लेना मोटापे का बड़ा कारण हो सकता है।

इसका मुख्य उदाहरण शक्कर है, जिसमें कैलोरी के अलावा कोई भी पौष्टिक तत्व नहीं होता है।

रोटी में है पूर्ण आहार

अलग-अलग तरह के खाद्य पदार्थों से हमें कुछ कुछ कैलोरी प्राप्त होती है

पोषक तत्व उस खाद्य पदार्थ को पौष्टिक बनाते है।

आटे से बनी रोटी में रेशों और कार्बोहाइड्रेट की मात्रा अधिक है, जो आवश्यक पोषक तत्व हैं।

जबकि ब्रेड में रासायनिक पदार्थ मिले हुए होते हैं जिस कारण उसमें पोषक तत्वों की मात्रा कम होती है।

फास्ट फूड में अधिक कैलोरी की मात्रा

हम बाहर का खाना अधिक पसंद करते हैं। ख़ासतौर पर फ़ास्टफूड बच्चों को अधिक पसंद होते हैं।

इनमें घर के खाने की अपेक्षा अधिक मात्रा में कैलोरी होती है।

जिस वजह से शरीर में वसा की मात्रा बढ़ती है और शरीर को मोटापा घेर लेता है।

एक रोटी में 0.56 ग्राम वसा की मात्रा होती है जबकि पिज़्ज़ा के एक टुकड़े में 10 ग्राम वसा की मात्रा होती है।

पिज़्ज़ा में अधिक मात्रा में कोलेस्ट्रॉल रहता है वहीं रोटी में इसकी मात्रा शून्य होती है।

How to Prevent Kidney Stones in summer | गर्मियों में किडनी स्टोन का खतरा

भोजन न छोड़ें

त्योहार के समय ज़्यादा मात्रा में गरिष्ठ भोजन करने पर लोगों को लगता है कि ज़्यादा कैलोरी वाला भोजन हो गया इस कारण वे एक समय का खाना छोड़ देते हैं।

हमारे मेटाबॉलिज़्म पर भी इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

कोशिश करें कि आप जो भी खा रहे हैं वो सही मात्रा में हो।

अगर गरिष्ठ भोजन की वजह से खाना छोड़ रहे हैं तो ये ज़रूरी नहीं कि बाद में आप सही अनुपात में ही भोजन करेंगे।

हो सकता है कि अधिक भूख लगने की वजह से आप ज़्यादा मात्रा में भोजन लें।

कई बार लंबे समय तक डाइटिंग करने के कारण शरीर में विटामिन खनिज की कमी होने की संभावना बढ़ जाती है।

ऐसे बढ़ती है कैलोरी

यदि आप तला भोजन करते हैं तो उसमें कैलोरी की मात्रा बढ़ जाती है।

जैसे रोटी में अगर घी लगा लेंगे तो उसमें कैलोरी की मात्रा बढ़ जाएगी, या रोटी की अपेक्षा पूड़ियां खाते हैं तो इसमें कैलोरी अधिक मात्रा में होगी।

इसलिए अधिक तला भोजन करने से बचने की कोशिश करें।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *