Best 6 Health Tips In Hindi

Best 6 Health Tips In Hindi | जितना हो सके प्राकृतिक एंटीबायोटिक्स लें

Best 6 Health Tips In Hindi एंटीबायोटिक दवाओं का सेवन बीमारियों से तो लड़ता है लेकिन इसके दुष्परिणाम भी होते हैं.

बीमारियों से लड़ने के लिए चिकित्सक एंटीबायोटिक्स लेने की सलाह देते हैं। लेकिन इनका स्वास्थ्य पर दुष्प्रभाव भी होता है।

एंटीबायोटिक्स लेने वाले व्यक्ति को पाचन संबंधी समस्या का सामना करना पड़ता है।

इसलिए जितना हो सके प्राकृतिक एंटीबायोटिक्स लेना चाहिए.

1. बैक्टीरिया से लड़ने में प्रभावी लहसुन

Garlic Natural Antibiotic

लहसुन अलग-अलग तरह के बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करता है।

इसके अलावा इसे कई बीमारियों में दवा के रूप में भी प्रयोग करते हैं।

इसे नियमित खाएं तो बीमारियों से दूर रहने में मदद मिलेगी।

ये भी पढ़ें :- लहसुन खाने के फायदे

2. मरहम के रूप में प्रयोग होता शहद

Honey natural antibiotic

अरस्तु के दौर में शहद का प्रयोग किसी घाव को भरने के लिए मरहम के रूप में करते थे।

यह छाले, जलने, स्किन ट्रांसप्लांट में भी राहत देता है।

इसमें हाइड्रोजन परऑक्साइड प्राकृतिक रूप से होता है।

ये भी पढ़ें :- शहद से आती है चेहरे पर रंगत

3. ब्लड शुगर भी नियंत्रित करती अदरक

Ginger Natural Antibiotic

प्राकृतिक एंटीबायोटिक के रूप में अदरक भी प्रभावी है।

यह बैक्टीरिया के अलग-अलग तत्वों को नष्ट करने में मददगार है।

लो ब्लड शुगर और मितली की समस्या में भी इससे राहत मिलती है।

ये भी पढ़ें :- अदरक है फायदेमंद

4. लौंग का पानी बैक्टीरिया नष्ट करने में सहायक

Cloves Natural Antibiotic

दांतों की समस्याओं को दूर करने में लौंग का प्रयोग लंबे समय से किया जाता है।

लौंग को उबालकर उस पानी का प्रयोग बैक्टीरिया को नष्ट करने में प्रभावी है।

ये भी पढ़ें :- लौंग का तेल है फायदेमंद

5. प्रभावी है अजवाइन

ajwain natural antibiotic

अजवाइन की पत्ती इम्यूनिटी को बढ़ाती है। इसमें सूजन कम करने वाले तत्व भी होते हैं।

यह प्रभावी एंटीबायोटिक है। अजवाइन या उसके तेल का प्रयोग भी एंटीबायोटिक के रूप में होता है।

ये भी पढ़ें :- जड़ी बूटियों के नाम

6. फायदेमंद है दालचीनी

Cinnamon Natural Antibiotic

दालचीनी से संक्रमण और वायरस से सुरक्षा होती है. दालचीनी में प्राकृतिक एंटी-माइक्रोबियल, एंटीबायोटिक, तत्व होते है जो शरीर को संक्रमण से सुरक्षा प्रदान करता है।

दालचीनी एसेंशियल ऑयल से शरीर की रोग प्रतिरक्षा क्षमता बढ़ती है। दालचीनी कवक संक्रमणों को मारता है।

ये भी पढ़ें :- दिमाग में संक्रमण का खतरा पैदा कर सकता है बहते कान की अनदेखी

 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *