Ramayan World Record

धारावाहिक ‘रामायण’ ने विश्व रिकॉर्ड बनाया, एक दिन में 7 करोड़ लोगों ने देखा

Ramayan World Record – देशभर में लॉकडाउन के चलते दर्शकों की मांग पर दूरदर्शन चैनल ने एक बार फिर रामानंद सागर की रामायण धारावाहिक का प्रसारण किया। इस धारावाहिक के प्रसारण के बाद चैनल के दर्शकों की संख्या में बढ़ोतरी हुई।

रामायण के साथ-साथ दूरदर्शन ने अन्य पुराने धारावाहिकों का भी पुनः प्रसारण किया। जिनमे शक्तिमान, महाभारत, चाणक्य जैसे धारावाहिक हैं। परन्तु सबसे ज्यादा रामायण देखा जा रहा है। लोग इसमें काफी दिलचस्पी ले रहे हैं।

हाल ही में आयी एक रिपोर्ट के अनुसार 16 अप्रैल के एपिसोड को विश्व में सबसे ज्यादा दर्शकों ने देखा। दूरदर्शन की ओर से जारी की गई जानकारी की मानें तो, 16 अप्रैल को प्रसारित हुए एपिसोड दुनिया भर में 7.7 करोड़ दर्शकों ने देखा, जिसके बाद यह सबसे अधिक देखा जाने वाला धारावाहिक बन गया है।

इस बात की जानकारी डीडी नेशनल द्वारा दी गई है। डीडी नेशनल ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल के जरिए ट्वीट कर बताया है।

WORLD RECORD!!
Rebroadcast of #Ramayana on #Doordarshan smashes viewership records worldwide, the show becomes most watched entertainment show in the world with 7.7 crore viewers on 16th of April pic.twitter.com/hCVSggyqIE

— Doordarshan National (@DDNational) April 30, 2020

जब से रामायण का प्रसारण हुआ इसे काफी पसंद किया जा रहा है, परन्तु 16 अप्रैल के इस ने कीर्तिमान स्थापित कर दिया है। हालांकि, 16 अप्रैल को प्रसारित हुए एपिसोड के विश्व रिकॉर्ड बनने के बाद लोगों के मन में सवाल उठ रहा है कि आखिर उस दिन उस एपिसोड में ऐसा क्या दिखाया गया था.

ये भी पढ़ें : रामायण से प्रेरित है नेटफ्लिक्स की यह नई एनिमेटेड सीरीज

दरअसल, रामायण का प्रसारण एक दिन में दो बार किया जाता है। अगर 16 अप्रैल की बात करें तो इस दिन रामायण में मेघनाद द्वारा लक्ष्मण को शक्ति बाण मारने के बाद का हिस्सा दिखाया गया है।

जिसमें हनुमान जी, विभीषण के कहने पर लंका से सुषेण वैद्य बुलाकर लाते हैं और वैद्य के कहने पर हनुमान संजीवनी बूटी के लिए जाते हैं।

परन्तु जब उन्हें संजीवनी बूटी की पहचान नहीं होती तो वे पूरा पर्वत ही उठाकर ले आते हैं। इसके साथ ही इस हनुमान के पर्वत लाने को लेकर रावण और मेघनाद के संवाद को भी दिखाया गया है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *