home remedies for swelling in feet during pregnancy in hindi

गर्भावस्था के दौरान पैरों की सूजन के लिए घरेलू उपचार

गर्भावस्था हर महिला के जीवन में सबसे प्रतीक्षित समय अवधि है। इस अवधि में महिलाओं को कुछ प्रकार की जटिलताएं महसूस होती हैं, लेकिन पैरों की सूजन आम तौर पर लगभग 60% -80% महिलाओं में देखी जाती है।

सूजन पैरों में अत्यधिक द्रव प्रतिधारण (Fluid Retention) और कुछ मामलों में अनुचित रक्त परिसंचरण (Blood Circulation) के कारण होती है।

गर्भावस्था के दौरान पैरों की सूजन का घरेलू उपचार/Home Remedies for Swelling in Feet During Pregnancy in Hindi

(1) दही

एक कटोरी दही लें और इससे छाछ तैयार करें। आप इसे दिन में 2-3 बार पी सकते हैं क्योंकि यह एक स्वस्थ पेय है और यह गर्भावस्था के दौरान पैरों की सूजन के लिए आश्चर्यजनक रूप से काम करता है।

यह पेट से विषाक्त पदार्थों को भी साफ करता है और भोजन को पचाने में मदद करता है। गर्भावस्था के दौरान पैरों की सूजन के लिए उपयोगी घरेलू उपचारों में से एक।

(2) नींबू का रस

एक गिलास गुनगुना पानी लें। अब, इसमें एक बड़ा चम्मच ताजे नींबू का रस मिलाएं। आप रोजाना इसका सेवन कर सकते हैं। यह गर्भावस्था के दौरान पैरों की सूजन के लिए घरेलू उपचारों में से एक है।

(3) धनिया

एक गिलास पानी में 2 बड़े चम्मच धनिया के बीज डालें। आंच पर रखें और मिश्रण को आधा तक उबालें। दिन में 2 बार आप इसका सेवन कर सकते हैं गर्भावस्था के दौरान पैरों की सूजन के लिए इस अद्भुत घरेलू उपाय को आजमा सकते हैं।

(4) मालिश

किसी भी जड़ी बूटी का तेल लें और उस तेल से अपने पैरों की लगभग 5-10 मिनट तक मालिश करें। यह उचित रक्त परिसंचरण सुनिश्चित करेगा और इस प्रकार सूजन को कम करेगा।

(5) गुनगुना पानी

एक टब में थोड़ा गुनगुना पानी डालें। इसमें अपने पैर भिगोएँ। यह सूजन को कम करेगा और विश्राम प्रदान करेगा।

(6) पानी

पानी पीना स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याओं पर काबू पाने में सहायक है। रोजाना लगभग 7-8 गिलास पानी पीना चाहिए और गर्भवती महिलाओं के लिए भी इसकी सलाह दी जाती है।

यह न केवल आपको हाइड्रेटेड रखता है बल्कि शरीर से अतिरिक्त विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में भी मदद करता है।

(7) पैदल चलना

गर्भावस्था के दौरान हर दिन लगभग 1 घंटे तक टहलना है इससे स्थिति बेहतर होती है। साथ ही, यह पैरों को गतिशील बनाता है और उचित रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है। यह पैरों में तरल पदार्थ के संचय को रोकने का एक निश्चित संक्षिप्त तरीका है।

(8) गुड़

2 गिलास पानी लें और उसमें बड़ा चम्मच गुड़ डालें और मिश्रण में 1 बड़ा चम्मच सौंफ भी डालें। इसे आंच पर रखें और आधा होने तक उबालें। इस पेय को आप दिन में 2-3 बार ले सकते हैं। यह सूजन को कम करेगा।

(9) विटामिन E

विटामिन ई गर्भवती स्त्री के लिए आश्चर्यजनक रूप से कार्य करता है जो गर्भावस्था के दौरान पैरों की सूजन से पीड़ित हैं। विटामिन ई से भरपूर खाद्य पदार्थ हैं हरे पत्तेदार सब्जियां, सूरजमुखी के बीज, शकरकंद, बादाम, अखरोट आदि।

(10) तिल के बीज

तिल का उपयोग कुछ त्वचा संबंधी समस्याओं के उपचार के लिए किया जाता है। एक गिलास पानी में आधा चम्मच तिल भिगोएँ। इसे रात भर छोड़ दें; इस पानी को छानकर सुबह को खाली पेट पीएं।

(11) करेला

ताजा करेला लें और उसमें से रस निकालें। इस रस का 1 कप रोज सुबह खाली पेट लें। यदि रोजाना करेले का जूस पीते हैं तो यह अद्भुत परिणाम दिखाता है। यह गर्भावस्था के दौरान पैरों की सूजन के लिए भी बेहतरीन घरेलू उपचारों में से एक है।

जो लोग इसके कड़वे स्वाद के कारण जूस नहीं पी पाते हैं, वो इसमें एक बड़ा चम्मच नींबू का रस भी मिला सकते हैं। यह न केवल स्वाद को बेहतर बनाता है बल्कि पाचन को भी ठीक करता है। गर्भावस्था के दौरान पैरों की सूजन के लिए एक चमत्कारिक घरेलू उपचार।

(12) पाम शुगर

दो कप पानी में एक बड़ा चम्मच पाम शुगर मिलाएं। इसके अलावा इसमें 2 बड़े चम्मच सौंफ के बीज डालें। मिश्रण को उबालें जब तक कि यह आधे से कम न हो जाए। आप इसे दिन में 2-3 बार ले सकते हैं। यह गर्भावस्था के दौरान पैरों की सूजन के लिए प्रभावी घरेलू उपचारों में से एक है।

नोट: इस पोस्ट और वेबसाइट के माध्यम से उपलब्ध टेक्स्ट(Text) , ग्राफिक्स, चित्र, और जानकारी सहित सभी सामग्री केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है। कोई भी उपाय करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *