Home Remedies for cold in hindi

कुछ वस्तुएं जो सर्दी से बचा सकती है | Home Remedies for cold in hindi

सर्दियों में खुद को और अपने चहेतों को सर्दी से बचाने के लिए कुछ जानकारियाँ नीचे पोस्ट में दी गयी है पढ़कर देखें|

सर्दी Home Remedies for cold in hindi अधिक होते ही इस मौसम में होने वाली कई बीमारियाँ अपना रंग दिखाना शुरू कर देती है|

सर्दी शुरू होते ही हृदय रोगों कि समस्या काफी हद तक बढ़ जाती है|

गर्मियों कि तुलना में सर्दियों में हार्ट अटैक की संभावना बहुत अधिक हो जाती है|

इन सभी मौसमी बीमारियों से बचने| और अपने परिवार वालों को इन सब समस्याओं से दूर रखने के लिए आपकी रसोई में कई ऐसे चीजें है जो आपके लिए बहुत ही फायदे मंद होती है|

खांसी होने पर छोटी पिप्पली, अतीश, मुलैठी और काकड़ा सीही पीस लें।

चार-चार चुटकी दिन में तीन बार शहद के साथ पांच साल तक के बच्चों को दिया जा सकता है।

इससे गले में जमा बलगम बाहर निकल जाता है।

और सांस की दिक्कत दूर होती है इसके अलावा अदरक, तुलसी, काली मिर्च का काढ़ा बनाकर थोड़ा-थोड़ा  पिला सकते है।

बच्चों को सोते समय दूध में हल्दी मिलाकर पिलाने से भी सर्दी में फायदा होता है।

हल्दी

आयुर्वेद पद्धति के अनुसार हल्दी पित्त वर्धक, और लिवर के उत्तेज़क है|

और कफ नाशक, हल्दी को गुनगुने पानी के साथ लेने से बलगम निकल जाता है|

हर बीमारी में इसकी मात्रा १ ग्राम से अधिक नहीं होनी चाहिए|

सर्दी, जुकाम, दांत दर्द अथवा सिर दर्द में भी हल्दी से फायदा पहुँचता है|

लौंग

वैसे तो लौंग आमतौर पर मसालों में प्रयोग की जाती है|

परन्तु ये एक तरह की औषधी भी है| इसमें एक बहुत ही महत्वपूर्ण गुण है खून के श्वेत कणों को बढ़ाना|

अगर आपको खांसी है तो लौंग को पानी के साथ पीसकर मिश्री मिलाकर या आग में भून कर शहद में मिलाकर खाएं इससे आपको खांसी में लाभ होगा|

काढ़ा बनाकर पियें और पिलायें

अजवायन का काढ़ा­

एक पैन में पानी उबलने के लिए रख दे| जब पानी अच्छी तरह से उबल जाये|

तो उसमे एक चम्मच अजवायन और थोडा सा गुड दाल दें|

अब इसे तब तक उबालें जब तक पानी आधा न रह जाये|

इस काढ़े को छानकर गुनगुना होने के बाद पियें|

ये काढ़ा आपकी खांसी Home Remedies for cold in hindi में जल्दी राहत देगा|

हल्दी और चायपती और अदरक का काढ़ा

एक गिलास पानी में थोड़ी से चायपती मिलाकर उबालें|

इसके बाद इसमें आधा चम्मच हल्दी और अदरक के टुकड़े काटकर डाल दें|

इस काढ़े को इसकी मात्रा आधी रहने तक उबालें|

और गुनगुना करके पियें खासी में राहत मिलेगी|

ये भी पढ़ें

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *