HKmap.live app

एप्पल द्वारा HKmap.live ऐप को स्टोर से हटाया गया

बुधवार को एप्पल द्वारा ऐप स्टोर से HKmap.live app को हटा दिया गया। पुलिस के स्थानों पर नज़र रख कर प्रदर्शनकारियों की सहायता करने वाली इस ऐप को ले कर बेहद बवाल हो रहा था।

कुछ दिन पहले ही इस ऐप को ऐप स्टोर पर रजामंदी देने के बाद, एप्पल को हर तरफ से आलोचनाओं का सामना करना पड़ रहा था जिसके चलते उन्होंने यह कदम उठाया।

इस ऐप्र पर होंग कोंग का नक्शा दिखाया जाता है। लगातार यूजर्स द्वारा पुलिस के मौजूदा स्थानों, उनके पानी के गोलों और सुरक्षित क्षेत्रों के बारे में जानकारी अपडेट की जाती है।

बुधवार को अपना स्टेटमेंट देते हुए एप्पल ने कहा

यह ऐप पुलिस के स्थान के बारे में जानकारी देता है। उन्होंने यह भी बताया की हांगकांग साइबर सिक्योरिटी एंड टेक्नोलॉजी क्राइम ब्यूरो से सत्यापित करने के बाद यह सामने आया है कि यह ऐप पुलिस को टारगेट और नुकसान पहुंचाने में सहायता कर रही है।

जनता की सुरक्षा पर भी यह घातक साबित हुई है। प्रदर्शनकारियों द्वारा इस ऐप का इस्तेमाल मासूम जनता को डराने धमकाने के लिए भी किया जा रहा है। ऐप के माध्यम से प्रदर्शनकारी उन इलाकों का पता लगा लेते हैं जहां पुलिस और कानून की मौजूदगी ना हो और ऐसे स्थानों को अपना टारगेट बनाकर वहां के लोगों को धमकाने का प्रयास करते हैं।

ये भी पढ़ें : दिल्ली को मिला एक नया एयरपोर्ट

इसे आप के समर्थकों द्वारा यह कहा जा रहा है कि इससे पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच में हो रही लड़ाइयों को रोका जाता है। ऐप का इस्तेमाल राह चलते लोग प्रदर्शनकारी, पत्रकार पर्यटक और कई सरकारी समर्थक भी करते हैं।

HKmap.live app के ट्विटर अकाउंट पर भी एप्पल के फैसले की आलोचना करते हुए ट्वीट किया गया यह सिर्फ जनता की आज़ादी और मानव अधिकार को दबाने के लिए लिया गया एक नीतिगत निर्णय है।

कुछ दिन पहले एनबीए के कार्यपालक ने अपने ट्वीट में होंग कोंग के प्रदर्शनों की तरफ समर्थन जताया था। जिसके चलते उन्हें चीन के तरफ से बेहद आलोचना प्राप्त हुई। इस सब के पश्चात एनबीए की सबसे विशाल मार्केट चीन में इसके प्रसारण को रोक दिया गया।

अपने इस निर्णय से एप्पल ने भी चाइना और हांगकांग के बीच हो रहे विवादों और प्रदर्शनों को रोकने की तरफ कदम बढ़ाया है।

एप्पल द्वारा कई अन्य एप्स को भी चीन में ऐप स्टोर से हटा दिया गया है जैसे की द न्यू यॉर्क टाइम्स। इस ऐप का इस्तेमाल भी चीनी यूजर्स द्वारा सरकार के इंटरनेट प्रतिबंधों को बिगाड़ने के लिए किया जा रहा था।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *