General Tips & Advice

समुद्री नमक की बजाय काला या सेंधा नमक लें

Best Benefits Of Black or Rock Salt

907 total views, 2 views today

क्या हम हर दिन जो नमक खा रहे हैं, वह ठीक है? यदि नहीं तो क्या कारण है? हमें कौन सा नमक प्रतिदिन खाना चाहिए, जो किसी तरह का नुकसान नहीं करता हो? क्यों हमें हर दिन जो नमक का सेवन करते हैं, वह बदलना चाहिए?

Best Benefits Of Black or Rock Salt

क्यों सफेद नमक नुकसान करता है?

* नमक कभी फ्री फ्लोइंग नहीं होता है। वह पानी सोख चुका होता है, इसलिए इसमें ढेले बन जाते हैं। यही नमक का गुण है। फ्री फ्लोइंग बनाने के लिए एंटी केकिंग एजेंट इस्तेमाल होते हैं, जो प्रतिंबधित केमिकल्स हैं। लंबे समय में ये किडनी को नुकसान पहुचाते हैं और कैंसरकारक हैं।

* नमक में आयोडीन होता ही हैं, लेकिन प्रोसेसिंग में आयोडीन खत्म हो जाता है। इसलिए कंपनियां सिंथेटिक आयोडीन डालती हैं।

* टेबल साल्ट सोडियम क्लोराइड का शुद्ध रूप है। लेकिन इसमें कोई मिनरल या माइक्रोन्यूट्रीएंट नहीं होता है।

काला नमक

इसकी केमिकल प्रोसेसिंग या ब्लीचिंग नहीं होती है। नमक का ढेला बाजार में मिलता है, इसे घर लाकर मिक्सी में पीसा जा सकता है।

* इस नमक में आयोडीन प्राकृतिक रूप में पोटेशियम आयोडाइड के फॉर्म में है। इसमें अन्य मिनरल और न्यूट्रीएंट हैं, जैसे जिंक, पोटेशियम, आयरन, बायकॉर्बोनेट, एल्यूमनाइट, फ्लोराइड होते हैं।

*  इस नमक में किसी तरह की केकिंग एजेंट को नहीं मिलाया जाता है, जिससे यह प्राकृतिक होता है।

*  काले नमक में ऐसे तत्व होते हैं, जो पाचन आसान करते हैं। साथ ही सीने में जलन या आफरा की शिकायत नहीं होने देता है। यह एसिडिटी से भी बचाता है।

सेंधा नमक

* इसकी भी प्रोसेसिंग नहीं होती है, इसलिए यह उजला सफेद नहीं होता है। इसे खदानों से निकाला जाता है।

* इसमें भी एंटीकेकिंग एजेंट नहीं हैं।

*  इसमें बहुत सारे इलेक्ट्रोलाइट होते हैं, साथ ही कैल्शियम और कई मिनरल्स होते हैं। गठिया जैसी बीमारियों के इलाज में इसका औषधीय प्रयोग किया जाता है। ये मसल क्रेम्प में भी काम करता है।

* ब्लड प्रेशर से पीड़ित लोगों को भी यह फायदा करेगा। ये समुद्री नमक के मुकाबले कम सोडियम शरीर में देगा। जबकि आमतौर पर हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को नमक कम ही खाने को कहा जाता है।

* इससे शरीर का मेटाबोलिक रेट भी अच्छा रहेगा। इससे न केवल भूख अच्छी लगेगी, वरन रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ेगी।

ये रेसिपी पढें:- सिंघाड़े के पकोड़े

Comment here